ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
डीएम ने किया पर्यटन क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण
September 4, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

भारतनमन ब्यूरो /बागेश्वर 03 सितम्बर। जनपद में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा दिये जाने के साथ ही इसे विश्व पर्यटन मानचित्र पर लाये जाने के लिए तथा इस क्षेत्र में किये जाने वाले कार्यों व जनपद में अधिक से अधिक पर्यटन स्थलों को चिन्हित कर उनको विकसित किये जाने के सम्बन्ध में पर्यटन विभाग एवं समस्त कार्यदायी संस्थाओं द्वारा तैयार की गयी कार्य योजनाओं का जिलाधिकारी विनीत कुमार द्वारा पर्यटन क्षेत्र जौलकाण्डे, रैतोली एवं कौसानी का स्थलीय निरीक्षण कर उनके संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त की गयी। 

 निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी डी0डी0 पंत ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि 13 डिस्ट्रिक 13 डेस्टिनेशन योजना के अंतर्गत शासन द्वारा गरूड़ वैली चयन किया गया हैं। जिसमें रैतोली नामक स्थान को टी-टूरिज्म हेतु चयन किया गया है। जिसमें लगभग 100 नाली भूमि उपलब्ध हैं, जिसमें स्थानीय प्रजाती के चाय बागान लगाने के साथ-साथ 05 इको हट का निर्माण उक्त बागान में किया जायेगा, पर्यटकों की सुविधा के लिए उक्त स्थान पर वाटर एटीएम, र्इको डस्टबिन, ई-टायलेट आदि के साथ पालिस स्टोन बाउन्ड्री, कार पार्किंग तथा मुख्य सडक मार्ग से हट तक लिंक रोड आदि अवस्थापना सुविधाओं का निर्माण प्रस्तावित हैं तथा इसी के साथ जौलकांडे नामक स्थान में माउन्टेन एवेंन्चर बाइकिंग सेंटर के रूप में विकसित किया जाना भी प्रस्तावित हैं। जिसमें 20 नाली भूमि उपलब्ध हैं जिसमें पार्किंग, रैस्टोरेंट, कॉटेज, गार्डन आदि का निर्माण कार्य किया जाना हैं। 

 इन क्षेत्रों में पर्यटन गतिविधियों को बढावा देने एवं स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था लघु सिंचाई को निर्देशित करते हुए कहा कि वे इन क्षेत्रों को विकसित करने के लिए 10 दिनों के भीतर डीपीआर तैयार कर प्रेषित करना सुनिश्चित करें ताकि अग्रेत्तर कार्यवाही की जा सके। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि 13 डिस्ट्रिक 13 डेस्टिनेशन अन्तर्गत चयनित स्थलों के विकास हेतु बनाये गयी कार्ययोजना में इस बात पर विशेष ध्यान रखा जाय कि विकसित किये जाने वाले पर्यटन स्थलों में पर्यटकों के लिए न केवल बेहतर सुविधायें हो बल्कि एक प्राकृतिक व्यू भी हो जिससे पर्यटक अपने आप को प्रकृति से बेहतर रूप में जोड़ सके। उन्होंने कहा कि बागेश्वर जैसे पर्वतीय क्षेत्र में पर्यटन की गतिविधियों को बढाकर स्थानीय स्तर पर न केवल रोजगार उपलब्ध कराया जा सकता है बल्कि र्इको टूरिज्म जैसे पहलूओं को बढावा दिया जा सकता है। उन्होंने निर्माणकारी संस्था को यह भी निदे्रश दिये कि चयनित स्थानों में किये जाने वाले निर्माण कार्यों में स्वागत कक्ष, विभिन्न स्थानों पर व्यू प्वाईट एवं डोरमेट्री आदि की सुनिश्चित व्यवस्था की जाय। 

 इसके उपरांत जिलाधिकारी द्वारा श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन कलस्टर योजना अन्तर्गत रूर्बन मिशन कलस्टर कौसानी योजना के अंतर्गत  कौसानी में 02 किमी ट्रैक रूट, 03 शौचालयों तथा 21 स्ट्रीट लाइट लगवायें जाने का भी स्थलीय निरीक्षण किया। जिसके संबंध में अधि0अभि0 ग्रामीण निर्माण विभाग रमेश चन्द्रा ने अवगत कराया कि इस योजना के लिए 70 लाख के सापेक्ष माह अगस्त तक 40 लाख की धनराशि व्यय की जा चुकी हैं, जिसके अंतर्गत वर्तमान तक 02 शौचालय का चिनार्इ का कार्य पूर्ण किया जा चुका हैं एवं टै्रक रूट में 01 किमी में 200 मीटर सीसी मार्ग का कार्य पूर्ण हो चुका है तथा अन्य 500 मीटर में बेस कंक्रीट कार्य पूर्ण हो चुका है। शेष टै्रक रूट का कार्य प्रगति पर है। जिलाधिकारी ने इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए ग्रामीण निर्माण विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि वे ट्रैक रूट का निर्माण प्राकृतिक रूप से करें ताकि आने वाले पर्यटक चाय बगान के साथ ही अन्य प्राकृतिक दृश्य का आनंद ले सके इसके साथ ही टिकट व्यवस्था के लिए विभिन्न स्थानों पर टिकट काउंटर आदि का निर्माण किया जाय। 

 इससे पूर्व जिलाधिकारी द्वारा जौलकाण्डे के प्रवासी निवासी ललित लोहनी द्वारा आजीविका हेतु स्वरोजगार के लिए खोले गये रेस्ट्रोरेंट का भी शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन इस बात के लिए सदैव तत्पर है कि प्रवासी युवाओं को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए संचालित की जा रही मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना एवं अन्य रोजगारपरक योजनाओं से लाभान्वित किया जा सके। ललित लोहनी द्वारा स्वरोजगार हेतु खोले गये रेस्टोरेन्ट पर विद्युत आपूर्ति न होने पर जिलाधिकारी से विद्युत हेतु 02 पोल लगाने की मॉग की जिस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि वे उक्त प्रकरण में आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। 

 निरीक्षण के दौरान एम0डी0 केएमवीएन रोहित मीणा, मुख्य विकास अधिकारी डी0डी0 पंत, उप जिलाधिकारी बागेश्वर राकेश चन्द्र तिवारी, गरूड़ जयवर्द्धन शर्मा, अधि0अभि0 लघु सिंचार्इ नरेश कुमार, सहायक अभियंता अमित अडवाल, ग्रामीण निर्माण विभाग रमेश चन्द्रा, जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ति आर्या, तहसीलदार नवाजिश खलीक, रेडक्रोस सोसाइटी के अध्यक्ष अशोक लोहनी, दरवान सिंह बिष्ट एवं संबंधित क्षेत्र के जनप्रतिनिधि सहित संबंधित अधिकारी आदि मौजूद रहें।