ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
गीत
July 16, 2020 • Naresh Rohila • सप्तरंग

     

       पर्यावरण की ओढ़नी  

 

       सुशीला रोहिला, सोनीपत (हरियाणा) 

 

        पेड़ों का है कहना 

        ना तुम हमें काटना

        धूप -छाव का बिस्तर देते

        राहगीर की पीड़ा हर लेते

        फल-फूल का है भंडार 

        वर्षा में सहायक होते ।

        संजीवनी बन देते प्राण

       तादाद बढ़े हमारी 

       करो यह उपकार

       पेड़ लगाओ सब बच्चे-

       बूढ़े और जवान ।

 

      गंगा माँ स्वर्ग की देवी

      भगीरथ का तपोबल महान

      शिव की जटाओ से निकली

      भू पर लिया विश्राम 

       गुणशील ,दयावान मिटाती

       सबकी प्यास 

        जात -धर्म कभी न पूछती

         सबका रखे ध्यान 

         मानव होकर मानवता भूली

          तुमने दिया मुझे गन्दगी का उपहार

          मेरा है कहना स्वच्छता है, मेरा गहना

          माँ बन कर मै सींचती 

           मुझे स्वच्छ रखे सब नर -नार

            फिर उतरे कर्ज तुम्हारा ।

 

        

         हिमालय की पुकार 

         तीर्थ- धाम का हूँ भंडार

         मै ना मनोरंजन का साधन

         शिव की तपोभूमि का हूँ स्थल

         निर्वाण पद का खजाना 

         जान ले तू यह मानव 

         भक्ति -भजन का दरिया बहता

          सद्गुरु जी की ले -ले शरणा

          ज्ञान- ध्यान जान खुल जाता

          मोक्ष द्वार 

 

         पर्यावरण की ओढनी सुखदाई 

          सब समझो बहनों- भाई 

          आओ इसका संरक्षण करें 

           भारतमाता का भाग्य बने।