ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
हर घर में स्वच्छ पेयजल मुहैया कराने को मजबूत रणनीति बनाएं:विनीत कुमार
August 26, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

जिलाधिकारी ने जल जीवन मिशन की बैठक ली 

भारत नमन ब्यूरो /बागेश्वर। जनपद के प्रत्येक घर में स्वच्छ जल पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने के लिए एक मजबूत रणनीति के तहत कार्य किया जाय। यह बात जिलाधिकारी विनीत कुमार ने जिला कार्यालय सभागार में आयोजित जल जीवन मिशन बैठक की समीक्षा करते हुए कही। जिलाधिकारी द्वारा जल जीवन मिशन अंतर्गत वर्ष 2024 तक प्रत्यके घर को स्वच्छ पेयजल कनैक्शन दिये जाने हेतु जनपद में वर्षवार रूप में बनायी गयी रणनीति एवं उसकी प्रगति की समीक्षा की गयी। समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने जल जीवन मिशन अंतर्गत कार्य करने वाली जल निगम, जल संस्थान व स्वजल जैसी संस्थाओं को निर्देशित करते हुए कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि वर्ष 2020-21 हेतु जनपद अंतर्गत निर्धारित कियें गयें कुल 116 राजस्व गांवों के 7272 के लक्ष्य को अनिवार्य रूप से प्राप्त किया जाय, इस हेतु चयनित किये गये एनजीओ के माध्यम से गांवों का सर्वेक्षण कराते हुए विलेज एक्शन प्लांन व डीपीआर आदि का कार्य निर्धारित समयावधि में तैयार करते हुए योजना की धनराशि स्वीकृति हेतु शासन को प्रेषित किया जाय, एवं शासन से धनराशि स्वीकृत होने के उपरान्त तत्काल कार्य शुरू करने के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू की जाय।

जिलाधिकारी ने जल जीवन मिशन अंतर्गत किये जाने वाले कार्यो की गुणवत्ता एवं उनकी उपादयता आदि का मूल्यांकन ग्रामीण निगरानी समिति आदि के माध्यम से अनिवार्य रूप से कराने के भी निर्देश दियें, ताकि योजना के धरातली स्वरूप को जाना जा सकें एवं उसके अनुरूप आवश्यक कार्यवाही की जा सकें। उन्होने कहा कि जल जीवन मिशन जैसी महत्वपूर्ण योजना बागेश्वर जैसे पाहडी जनपद के लिए अंत्यंत महत्वपूर्ण हैं, इसके सफल धरातली क्रियान्वयन के माध्यम से जहां एक ओर प्रत्येक घर को स्वच्छ जल प्रर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराया जा सकेगा वहीं दूसरी ओर इससे मितव्ययता एवं कार्य की गुणवत्ता को भी बढावा मिलेगा। इसलिए यह आवश्यक हैं कि योजना के संचालन हेतु जल निगम, जल संस्थान व स्वजल तीनों विभाग पूर्णत: ईमानदारी के साथ अपने वार्षिक लक्ष्य के अनुरूप गुणवत्तापरक रूप में कार्य करें, ताकि जनपद हेतु वर्ष 2024 के दीर्घकालीक लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकें। उन्होने योजना के सफल क्रियान्वयन हेतु मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि साप्ताहिक रूप से इस महत्वपूर्ण योजना की समीक्षा कर योजना की प्रगति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए यह सुनिश्चित करें कि संबंधित सभी विभाग गुणवत्तापरक रूप में कार्यो का संपादन करे। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दियें कि योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए ठीक प्रकार से सर्वे एवं प्लानिंग की जाय तथा उपलब्ध जल स्रोतो के अनुसार ही कार्ययोजना तैयार करें तथा इससे लाभान्वित होने वाले तोको का भी पूर्ण विवरण उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उन्होने यह भी निर्देश दियें कि वन क्षेत्रान्तर्गत जल स्रोतो से गांव को पानी उपलब्ध कराने के लिए वन विभाग को नोडल बनाया जाय। उन्होने यह भी निर्देश दियें कि योजनाओं के लिए तैयार कियें गयें प्राकंलन का तकनीकि परीक्षण समिति से भी अनिवार्य रूप से परीक्षण कराया जाय।समीक्षा बैठक में अपर परियोजना निदेश शिल्पी पंत ने जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि जल जीवन मिशन अंतर्गत वर्ष 2020-21 से वर्ष 2023-24 तक विस्तृत कार्य योजना का निर्माण किया गया हैं जिसमें वर्ष 2024 तक 52156 परिवारों को इस योजना अंतर्गत आच्छादित किया जाना प्रस्तावित है। जिसमें जल निगम द्वारा 26879, जल संस्थान द्वारा 8635 तथा स्वजल द्वारा 16642 परिवारों को आच्छादित किया जायेगा। वहीं वर्ष 2020-21 के लिए जनपद में 7272 कनेक्शन देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया हैं, जिसमें जल निगम द्वारा 40 राजस्व ग्राम में 03 हजार, जल संस्थान द्वारा 39 राजस्व ग्रामों में 2538 तथा स्वजल द्वारा 37 राजस्व ग्रामों में 1734 कनेक्शन देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया हैं, इसके सापेक्ष जल निगम द्वारा 1317, जल संस्थान 750 तथा स्वजल द्वारा 34 लोगो को इस प्रकार अब तक 2101 लोगो इस योजना से लाभावित किया गया हैं, तथा शेष को लाभान्वित किये जाने की प्रक्रिया जारी है। बैठक में 66 पेयजल योजनाओं का प्राकंलन प्रस्तुत किये गयें जिसमें जल निगम की 42 योजनाओं के लिए 2682.18 लाख, जल संस्थान के 15 योजनाओं के लिए 265.37 लाख तथा स्वजल की 09 योजनाओं के लिए 228.58 लाख की धनराशि का प्राकलन प्रस्तुत किया गया।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डी0डी0पंत, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0डी0जोशी, प्रभागीय वनाधिकारी बी0एस0शाही, उपजिलाधिकारी बागेश्वर राकेश चन्द्र तिवारी, डॉ0 एन0एस0टोलिया, मुख्य कृषि अधिकारी वी0पी0मौर्या, अध0अभि0 जल संस्थान एम0के0टम्टा, पेयजल निगम सीपीएस गंगवार, ग्रामीण निर्माण विभाग रमेश चन्द्रा, सिंचार्इ ए0के0जॉन, दरवान सिंह बिष्ट, किशन सिंह मलडा सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। 

सीएम हैल्पलाइन में दर्ज शिकायतों का समयबद्ध निराकरण करें

बागेश्वर। जिलाधिकारी विनीत कुमार ने जिला कार्यालय सभागार में सीएम हैल्पलाइन में विभिन्न विभागों से दर्ज शिकायतों के संबंध में महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक ली। समीक्षा बैठक में उन्होंने संबंधित सभी विभागों के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये गये कि सीएम हैल्पलाइन में दर्ज शिकायतों का निराकरण समयबद्धता के साथ करना सुनिश्तिच करें इसमें किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही एवं शिथिलता न बरती जाय। सीएम हैल्पलाइन के माध्यम से दर्ज शिकायतों का सभी अधिकारी नियमित रूप से स्वयं अवलोकन करें साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि विभाग से संबंधित शिकायत विभाग के प्रारम्भिक स्तर एल-1 से बिना किसी कार्यवाही के उच्च स्तर को प्रेषित न हो, यदि ऐसा पाया गया तो संबंधित विभागीय अधिकारी के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

उन्होंने कहा कि सीएम हैल्पलाइन में दर्ज शिकायतों का सभी विभाग औचित्य एवं जनहित के दृष्टिगत जल्द से जल्द धरातलीय समाधान करना सुनिश्चित करें किन्तु यदि शिकायत नीतिगत मामलों से संबंधित हो तो ऐसे मामलों में उच्च स्तर को अपनी सुस्पष्ट आख्या देते हुए विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने निर्देश दिये कि शिकायतकर्ता से संबंधित विभागीय अधिकारी स्वयं भी दूरभाष से संपर्क करते हुए उसकी औचित्य को देखते हुए नियमानुसार कार्यवाही करते हुए शिकायत का समाधान सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सीएम हैल्पलाइन का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगों तक सरल व सुगम रूप में सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ पहुॅच सके साथ ही उन्हें अनावश्यक रूप से इधर-उधर भी न भटकना पड़े। इसके लिए यह आवश्यक है कि सभी विभाग तत्परता से दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ कार्य करते हुए शिकायतों का समाधान सुनिश्चित करें। सीएम हैल्पलाइन की समीक्षा के दौरान प्रभारी अपर जिलाधिकारी राकेश चन्द्र तिवारी ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि जनपद स्तर पर विभिन्न विभागों से संबंधित विभिन्न स्तरों पर कुल 174 शिकायतें लम्बित है जिसमें 18 शिकायतें एल-1, 43 शिकायतें एल-2, 34 शिकायतें एल-3 तथा 79 शिकायतें एल-4 पर स्तर पर है, जिन पर कार्यवाही अपेक्षित है।

जिलाधिकारी ने संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि एल-1 स्तर पर लम्बित सभी शिकायतों का तत्काल रूप से नियमानुसार निर्धारित समयावधि में निस्तारण करना सुनिश्चित करें साथ ही ऐसी शिकायतें जो एल-3 या एल-4 स्तर पर लम्बित हो गयी है उनके संबंध में भी पुन: स्पष्ट आख्या प्रेषित करते हुए एल-3 व उच्च स्तर को अवगत कराना सुनिश्चित करें ताकि उच्च स्तर पर लम्बित इन शिकायतों का भी नियमानुसार समाधान सुनिश्चित हो सके।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डी0डी0पंत, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0बी0डी0जोशी, जिला विकास अधिकारी के0एन0तिवारी, उप जिलाधिकारी काण्डा योगेन्द्र सिंह, कपकोट प्रमोद कुमार, पुलिस उपाधीक्षक महेश जोशी, अपर परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, अधि0अभि0 ग्रामीण निर्माण विभाग रमेश चन्द्र, अधि0अभि0 पीएमजीएसवाई बागेश्वर राजेन्द्र प्रसाद, अधि0अभि0 लोनिवि बागेश्वर के0के0तिलारा, अधि0अभि0लोनिवि कपकोट संजय कुमार पाण्डेय, सिंचार्इ ए0के0जॉन, जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ति आर्या, महाप्रबंधक उद्योग जी0पी0 दुर्गापाल, मुख्य कृषि अधिकारी वी0पी0मौर्या, तहसीलदार बागेश्वर नवाजिश खलीक सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।