ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने लॉकडाउन में शराब की दुकानें खोलने के निर्णय को जनविरोधी करार दिया
July 18, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

भारत नमन ब्यूरो /देहरादून 18 जुलाई। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने प्रदेश में लगाए गए दो दिवसीय लॉकडाउन के दौरान शराब और मांस मछली की दुकानें खोलने के राज्य सरकार के फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सरकार के इस निर्णय को जन विरोधी और शराब को बढ़ावा देने वाला बताते हुए इस निर्णय की कड़ी आलोचना की है।

 प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि राज्य सरकार का यह निर्णय जन विरोधी तथा प्रदेश में शराब को बढ़ावा देने वाला है। उन्होंने कहा कि एक ओर जहां लॉकडाउन लगा कर राशन की दुकानों को खोलने से प्रतिबंधित किया गया है वहीं दूसरी ओर लॉक डाउन के दौरान शराब और मांस मछली की दुकानों को आवश्यक सेवा में शामिल करते हुए लॉक डाउन में छूट दी है जो हास्यास्पद ही नहीं हैरान करने वाला निर्णय है। उन्होंने कहा कि पूर्ण लॉकडाउन में सरकार ने शराब की दुकानों को छूट देकर साबित कर दिया है कि सरकार को जनता के जानमाल से अधिक चिंता शराब व्यवसाय करने वालों की है। 

श्री प्रीतम सिंह ने कहा कि आम जनता अपने जरूरी कामो के लिए भी बाहर नहीं निकाल सकती परन्तु सरकार के इस जन विरोधी फैसले से ऐसा लगता है कि राज्य सरकार को शराब माफिया चला रहे हैं। 

महानगर अध्यक्ष लालचंद शर्मा ने भी हैरानी जताई 

 महानगर कांग्रेस अध्यक्ष लालचन्द शर्मा ने त्रिवेंद्र सरकार की उस निर्णय पर हैरानी व्यक्त की है जिसमें सरकार ने देहरादून सहित चार जिलों में संपूर्ण लॉक डाउन के दौरान शराब की दुकानों को आवश्यक सेवा में मानते हुए लॉक डाउन में छूट दी है।

लालचंद शर्मा ने कहा कि एक तरफ तो सरकार ने राशन की दुकानों को भी बंद रखने के आदेश दिए हैं तथा अपने आवश्यक कामो से दो पहिया वाहनों पर जा रहे लोगो को भी रोक रही है वहीं शराब की दुकानों को छूट देकर क्या साबित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि इससे ऐसा लगता है राज्य सरकार को शराब माफिया चला रहे हैं अन्यथा ऐसी कौन सी आफत आजाएगी अगर दो दिन शराब की दुकानें बंद रहेंगी।

महानगर अध्यक्ष ने कहा कि इससे साफ जाहिर होता है राज्य की भाजपा सरकार को जनता की कम अपने राजस्व की अधिक चिंता है।