ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
कविता
May 25, 2020 • Naresh Rohila • सप्तरंग

प्रकाश की किरण बेटी 

  सुशीला रोहिला, सोनीपत हरियाणा 

 

   प्रकाश की किरण है बेटी

   माता -पिता का वंश बेटी 

   पितृभक्ति की पहचान बेटी

   मातृशक्ति का स्वरूप बेटी 

 

  नाम की सार्थकता है ज्योति 

  बूढ़े बीमार पिता की पहचान 

  महामारी कोरोना से परेशान 

  लाॅकडाउन में घर पर बंद इंसान 

 

  बेटी ने पिता को घर लाने की ठानी

  सामान के बदले साइकिल ले डाली

  बारह सौ कोस की थी लम्बी दूरी  

  रात-दिन पैड़लो ने दूरी नाप डाली

 

  लाचार पिता बैठा पीछे घर की है चाह

  सात दिन का था सफर कठिन डगर

  बेटी ज्योति ने रचा एक नया इतिहास 

 पिता घर आए ज्योति पिता की शान 

 

 धन्य धन्य वह है माता-पिता 

  बेटा-बेटी जो रखे एक समान 

 बेटी माता पिता का वश कहलाती

  बेटा पिता का अशं कहलाता