ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
मेरी बात
March 18, 2020 • Naresh Rohila • हेल्थ

सावधान रहो ना !

नरेश रोहिला /कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार के स्तर पर जो बडे कदम उठाये जा रहे है ,उनका स्वागत होना चाहिए | विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस बीमारी को महामारी घोषित किये जाने के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बहुत तीव्रता से कदम उठाये और महामारी घोषित करने के साथ ही इसे राष्ट्रीय आपदा की इस श्रेणी में रखा |लोगों कोरोना वायरस से बचाने के लिए युद्ध स्तर पर काम हो रहा है | उत्तराखण्ड की त्रिवेन्‍द्र सिंह रावत की सरकार भी कोरोना वायरस से बचाव के सभी इन्तजाम करने में जुटी है | स्कूल ,कालेज ,विश्वविद्यालय, निजी संस्थान , माल, क्लब, सि्वमिंग पूल आदि 31 मार्च तक बन्द कर दिये गये हैं | सरकारी , गैरसरकारी आयोजनों पर भी फिलहाल रोक है | राजनीतिक दलों ,सामाजिक संस्थाओं , संगठनों ने भी बैठक , रैली आदि स्थगित कर दिये हैं | निशिचत ही ऐसा करने का मकसद यही है कि  लोगों की कहीं भी भीड एकत्र न हो और आवाजाही कम हो सके | दर असल कोरोना वायरस संक्रमित किसी भी व्यकित के सम्पर्क से यह बीमारी लग सकती है | इससे भी बडा खतरा यह है कि संक्रमित व्यक्ति ही नहीं किसी भी चीज को छूने से भी संक्रमण संभव है | इसलिए बार - बार हाथ धोने, मुंह पर मास्क लगाने, आपस में कम से कम एक मीटर की दूरी बनाये रखने की सलाह के साथ ही स्वच्छता पर अधिक ध्यान देने की सलाह स्वास्थ्य विभाग दे रहा है | घर ,दफ्तरों , होटल, रेस्तरां आदि स्थानों को ज्यादा से ज्यादा सेनिटाइज करने पर जोर दिया जा रहा है | रेल ,रोडवेज की बसों को सेनिटाइज किया जा रहा है | प्रदेश की रोडवेज बसों में इसकी तैयारी हो रही है | सरकार को इसी के साथ के साथ पब्लिक ट्रांसपोर्ट में साफ सफाई का भी ध्यान रखने की कार्यवाही करनी चाहिए | राजधानी देहरादून में रोजाना लाखों लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हैं | सिटी बसें ,विक्रम, आटो और इ-रिक्शा आवाजाही का बडा माध्यम है | कोरोना वायरस से बचाव के लिए इनमें भी सेनिटाइज करने के कदम उठाये जाने चाहिए | इसके लिए निम्न कदम उठाये जाने जरूरी हैं ताकि कोरोना से अधिक से अधिक बचाव हो सके |
* पब्लिक ट्रांसपोर्ट में आने वाले सभी वाहनों की हर रोज दवायुक्त पानी से धुलाई के साथ सेनिटाइज करना |
* वाहन में हर सवारी को सेनिटाइजर उपलब्ध   कराना |
* वाहन में अधिक सवारियों बैठाकर चलने पर रोक लगाना |
प्रशासन और ट्रैफिक पुलिस को सिटी बसों और विक्रम वाहनों में इस बात की कडाई से निगरानी करनी चाहिए कि उसमे परमिट में उल्लेखित संख्या से अधिक सवारी न बैठ पायें | ओवर लोडिंग न हो | विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देश के अनुसार कहीं भी दो लोगों के बीच कम से कम एक मीटर का फासला जरूरी है | हालाँकि वाहनों में यह संभव नहीं लगता लेकिन महामारी से बचाव तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट में कुछ उपाय तो करने ही होगे |
सावधान रहो ना !