ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
पढिये! भारत नमन. पेज का बुलेटिन
June 22, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

 

मुख्यमंत्री ने किया त्रिस्तरीय पंचायतों के लिए 238.38  करोड़ का डिजिटल हस्तांतरण 

भारत नमन ब्यूरो देहरादून। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को सचिवालय में डिजिटल माध्यम से त्रिस्तरीय पंचायतों (ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत एवं जिला पंचायत) को कुल 238.38 करोड़ रूपये की धनराशि का हस्तान्तरण किया। जिसमें 15वें वित्त आयोग की प्रथम किश्त एवं राज्य वित्त आयोग की धनराशि का एक साथ डिजिटल हस्तान्तरण किया गया। जिसमें उत्तराखण्ड की 7791 ग्राम पंचायतों, 95 क्षेत्र पंचायतों एवं 13 जिला पंचायतों के लिए 15 वें वित्त आयोग की 143.50 करोड़ रूपये की अनटाईड अनुदान धनराशि एवं राज्य वित्त आयोग की 94.88 करोड़ की धनराशि शामिल है।

डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के तहत 15 वें वित्त आयोग एवं राज्य वित्त आयोग द्वारा पंचायतों हेतु संस्तुत अनुदानों को आॅनलाईन एक साथ डिजिटल हस्तान्तरण के माध्यम से संबंधित पंचायतों को हस्तान्तरित करने की शुरूआत की गई। इस महत्वाकांक्षी योजना के प्रथम चरण में 09 फरवरी 2020 को हरिद्वार में आयोजित जिला पंचायत अध्यक्षों/उपाध्यक्षों एवं क्षेत्र पंचायत प्रमुखों के अभिमुखीकरण कार्यक्रम में केन्द्रीय पंचायतीराज मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा 14वें वित्त आयोग एवं राज्य वित्त आयोग की धन राशियों के एकमुश्त डिजिटल हस्तान्तरण की शुरूआत की गई।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि भारत सरकार द्वारा लागू मा. प्रधानमंत्री जी की महत्वाकांक्षी योजना डिजिटल इंडिया का प्रोग्राम का उद्देश्य सरकारी सेवाओं को उन्नत करना, सरकारी योजनाओं की जानकारी आॅनलाईन पंहुचाना एवं ई-गवर्नेंस को बढ़ावा देना है। प्रधानमंत्री जी द्वारा राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर पर 24 अप्रैल 2020 को ई-ग्राम स्वराज पोर्टल का शुभारम्भ किया गया। उन्होंने कहा कि इससे जहां एक ओर राजकीय कार्यों में पारदर्शिता बढ़ेगी वहीं पोर्टल के माध्यम से पंचायत को केन्द्रीय वित्त एवं राज्य वित्त व अन्य स्त्रोतों से प्राप्त धनराशि एवं पंचायत में कराये जा रहे विकास कार्यों की प्रगति के साथ-साथ अन्य जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पंचायतों को एक साथ धनराशि का डिजिटल हस्तान्तरण से पंचायतों को विकासपरक योजनाओं के साथ-साथ कोरोना वायरस महामारी से ग्रामवासियों केे बचाव हेतु आवश्यक उपायों और बाहर से आये नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन सबंधी व्यवस्था हेतु सामुदायिक भवनों की स्वच्छता, विद्युत व्यवस्था, पेयजल, सैनिटाइजेशन एवं अन्य आवश्यक कार्यों को पूर्ण करने में सहायता मिलेगी।

इस अवसर पर जानकारी दी गई कि वित्त विभाग के शासनादेश के अनुसार केन्द्रीय वित्त के संदर्भ में प्राथमिक अनुदान अनटाईड है, जिसका उपयोग स्थानीय निकायों द्वारा स्थान-विशिष्ट आवश्यकताओं के लिए किया जा सकता है। राज्य वित्त आयोग की अनुदान राशि से निर्वाचित जन प्रतिनिधियों का मानदेय पंचायतीराज विभाग द्वारा भुगतान किया जायेगा। अवशेष धनराशि में से 20 प्रतिशत धनराशि कोरोना महामारी के बचाव हेतु प्रचार-प्रसार, सेनेटाईजेशन व महामारी से सबंधित अन्य कार्यों पर व्यय की जायेगी। इसके अलावा जलापूर्ति व्यवस्था, सीवरेज ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, जल निकासी एवं स्वच्छता, सामुदायिक परिसम्पतियों के रख-रखाव, स्ट्रीट लाईट तथा आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण/अतिरिक्त कक्षा कक्ष का निर्माण एवं सामुदायिक भवन निर्माण आदि विकास कार्य किये जायेंगे।

इस अवसर पर सचिव पंचायतीराज श्री बृजेश कुमार संत, निदेशक पंचायतीराज श्री एच.सी. सेमवाल एवं पंचायतीराज विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

कोरोनाअपडेट 

57 नये मरीज,प्रदेश में

आंकडा पहुंचा 2401

देहरादून। उत्तराखण्ड में कोरोना पाजीटिव का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। स्टेट कोरोना कन्ट्रोल रूम कोविड-19 द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार आज अपराह्न 2 बजे तक 57 नये कोरोना पाजीटिव आये। जिसके बाद प्रदेश में कोरोना मरीजों का आंकडा 2401 हो गया। 1511 मरीज अब तक स्वस्थ हो चुके हैं जबकि 848 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। राज्य में अब तक 27 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। 

आज अल्मोडा में 11,देहरादून में 1, हरिद्वार में 17,नैनीताल में 2, पौड़ी में 10,टिहरी में 1और उधमसिंह नगर में 15 नये मरीज सामने आये।

जनशिकायतों का प्राथमिकतासे करें समाधान :डीएम

देहरादून। जन शिकायतों का प्राथमिकता से करें समाधान’’ यह निर्देश जिलाधिकारी डाॅ0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कलेक्टेªट सभागार में आयोजित की गयी जनसुनवाई में सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को दिये। 

जिलाधिकारी ने जनसुनवाई के दौरान उप जिलाधिकारी सदर को निर्देश दिये कि उनसे सम्बन्धित प्राप्त हुए भूमि विवाद व भूमि अतिक्रमण से लेकर पारिवारिक विवाद, आर्थिक सहायता, किसी नुकसान की भरपाई हेतु मुआवजा से सम्बन्धित आवेदनों पर गंभीरता से संज्ञान लेते हुए समाधान करें तथा कृत कार्यवाही से उनको भी अवगत करायें। उन्होंने अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग को पटेल रोड के पास पानी की निकासी में बाधक स्थान पर पानी निकास हेतु आवश्यकतानुसार कार्यवाही करने तथा प्रभागीय वनाधिकारी देहरादून को निर्देशित किया कि शिमला बाईपास में विद्युत लाइन में बाधक बने पेड़ की कटाई की जाय अथवा आवश्यकतानुसार लाॅपिंग करवाई जाय, जिससे विद्युत के तारों से किसी प्रकार की अनहोनी न हो। 

जिलाधिकारी ने मिट्ठी बेड़ी प्रेमनगर निवासी की उनकी जमीन में तारबाड़ करने के सम्बन्ध में प्राप्त आवेदन पर उप जिलाधिकारी सदर को, जीवनगढ विकासनगर में भूमि कब्जों के सम्बन्ध में की गयी शिकायत पर क्षेत्राधिकारी विकासनगर को तथा कारगीग्रान्ट निवासी द्वारा फुटवियर की दुकान के लिए किये गये आवेदन के क्रम में अपर जिलाधिकारी प्रशासन को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये। उन्होंने नवोदय विद्यालय नालापानी में नियुक्ति  के सम्बन्ध में किये गये आवेदन पर सम्बन्धित प्रधानाचार्य तथा प्राईमरी स्कूल से सम्बन्धित प्रकरण पर संज्ञान लेने और जरूरी कार्यवाही करने के मुख्य शिक्षाधिकारी को निर्देश दिये। 

इस दौरान जन सुनवाई में कुल 25 पंजीकृत शिकायतकर्ताओं में से 19 आवेदन जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत हुए जिसमें से अधिकतर प्रकरण उप जिलाधिकारी सदर से सम्बन्धित तथा व्यक्तिगत व सार्वजनिक भूमि के विवाद से सम्बन्धित थे। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वि/रा बीर सिंह बुदियाल उपस्थित थे। 

जिलाधिकारी के ई-आफिस के कार्यो में तेजी लाने के निर्देश 

देहरादून। ई-कलेक्टेªट और ई-आफिस के कार्यों में तेजी लायें। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने ई-कलेक्टेªट के कार्यों से जुड़े एनआईसी, ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर को कलेक्टेªट सभागार में आयोजित  ई-कलेक्टेªट की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिये।   

उन्होंने निर्देश दिये कि ई-आफिस से जुड़े एच.आर.एम.एस (ह्यूमैन रिसोर्स मैनजमेंट सिस्टम), रिकार्ड मैनेजमेंट, फील्ड इ्रन्सपेसन आॅनलाईन मैनेजमेंट, ई-फाईलिंग सिस्टम के कार्यों का तेजी से आॅनलाईन सिस्टम डेवलपमेंट करें, जिससे 15 अगस्त तक ये कार्य इम्पलिमेंट हो सके। जिलाधिकारी ने कलेक्टेªट के कार्यों की पूरी प्रोसेज की समीक्षा करते हुए कहा कि कलेक्टेªट कार्यालयों के साथ ही तहसील सदर को भी ई-आफिस मोड पर संचालन करने के तेजी से प्रसास किये जायें। उन्होंने कहा कि कलेक्टेªट में ई-आफिस के कार्यों का ट्रायल शुरू हो चुका है और इसमें जो भी चीजें जोड़ी जानी है उनको भी तेजी से जोड़ा जाय। उन्होंने जिला सूचना विज्ञान अधिकारी को जनसुनवाई में प्राप्त होने वाले आवेदनों के सम्बन्ध में निर्देशित किया कि प्राप्त होने वाले आवेदन स्कैन होने के पश्चात उन तक पंहुचे ऐसी प्रक्रिया पर कार्य किया जाय। उन्होंने कहा कि ई-आफिस के सभी कार्यों को तेजी से और बेहतर संचालन के लिए सभी सम्बन्धित विभाग व एजेंसी आपसी समन्वय से कार्य करें। 

इस अवसर पर जिला सूचना विज्ञान अधिकारी भाष्कर सिंह कुलियाल, सिस्टम एडमिनिस्टेªटर संजीव चन्द्र सूंबा, अपर जिला सूचना विज्ञान अधिकारी रणजीत सिंह सहित कई अधिकारी उपस्थित थे। 

जनगीतकार जीत सिंह नेगी को उक्रांद की श्रद्धांजलि 

देहरादून। उत्तराखंड के गीतकार,नाटककार व महान व्यक्त्व के धनी जीत सिंह नेगी के देहांत पर उत्तराखंड क्रान्ति दल की ओर से श्रद्धांजलि दी गयी।इस अवसर पर सुनील ध्यानी ने कहा कि स्व० जीत सिंह नेगी उत्तराखंड की विभूतियों में से एक है, पर्वतीय आँचल व संस्कृति को विश्वपटल पर अपने गीतों व रचित नाटकों छाप छोड़ी। उनके गीतों व रचनाओं तथा नाटकों को कभी भुलाया नही जा सकता है।उत्तराखंड क्रान्ति दल की स्थापना के पश्चात प्रथम लोकसभा चुनाव जो पार्टी ने लड़ा तथा टिहरी लोकसभा से उक्रांद प्रत्याशी कृपाल सिंह सरोज के चुनाव प्रचार में गीतों के माध्यम से सब०जीत सिंह नेगी जी ने योगदान दिया ।उक्रांद परिवार ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिये पार्टी कार्यालय में प्रार्थना की गयी।इस अवसर पर श्री लताफत हुसैन,सुनील ध्यानी,विजय बौड़ाई,राजेन्द्र बिष्ट,अशोक नेगी,भगवती प्रसाद डबराल आदि थे।

पुरानी पेंशन लागू करने की मांग का समर्थन 

देहरादून। उत्तराखण्ड क्रांति दल ने पुरानी पेंशन लागू करने की कर्मचारियों की मांग का समर्थन किया है। उक्रांद के केन्द्रीय प्रवक्ता सुनील ध्यानी ने कहा है कि राज्य की भाजपानीत सरकार बेरोजगारों व कर्मचारी विरोधी है, जहां एक तरफ मितव्ययिता के नाम पर भर्तियों पर रोक व पदों को समाप्त करने का निर्णय ले चुकी है वही कर्मचारियों के वेतन भत्तों की कटौती करके शोषण कर रही है।वहीं दूसरी तरफ उत्तराखंड राज्य के कर्मचारी पुरानी पेंशन लागू करने की मांग कर अपना स्वाभाविक हक के लिए संघर्ष व आंदोनरत है।उत्तराखंड क्रान्ति दल कर्मचारियों की पुरानी पेंशन की मांग का पूर्ण समर्थन करती है,तथा राज्य कर्मचारियों के मांग के लिये सरकार के खिलाफ आरपार की लड़ाई के लिये तैयार है।

      उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण काल में लाकडाउन के दौरान भी  अपने राजनैतिक प्रचार वर्चुअल लरैलियों के माध्यम से करोड़ों रुपया खर्च कर रही है साथ ही केंद्र सरकार के गुणगानों को अपने राजनैतिक कार्यकर्ताओ के माध्यम से प्रचार घर घर जाकर कर रही है लेकिन अन्य दलों के लिये प्रतिबंध लगाकर अपने हितों को साध रही है। उक्रांद इसका घोर विरोध करता है साथ ही केंद्र व राज्य सरकार की कथनी करनी को जनता में पर्दाफ़ाश करेगी।चाहे वह 100 दिन में लोकपाल की चुनावी घोषणा पत्र में कही गयी।महंगाई के नाम पर चुनाव जीतने वाली भाजपा ने कई गुना महंगाई में बृद्धि की है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पेट्रोल व डीजल के दामों में गिरावट होने के बावजूद पेट्रोल व डीजल के दामों में रोजबृद्धि करके जनता की कमर तोड़ दी है।

ये भी पढिये 

विधानसभा अध्यक्ष ने भिक्षुक को दिया मदद का चेक

देहरादून l देहरादून के पंचायत मंदिर चौराहे , दर्शन लाल चौक पर अक्सर एक दिव्यांगजन भिक्षुक कई वर्षों से भिक्षावृत्ति करते हुए देखा होगा।आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चंद अग्रवाल जी की फ़्लीट जब इस चौराहे पर पहुंची तो उन्होंने अपनी गाड़ी से उतर कर एक चेक निकाला और भिक्षुक राजकरण के हाथ में सौंपा साथ में राशन किट के दो बैग भी उन्हें भेंट कर विधानसभा अध्यक्ष  विधानसभा के लिए निकल पड़े ।

     ज्ञात हो कि प्रेमचंद अग्रवाल विधानसभा अध्यक्ष विवेकाधीन कोष को गरीबों एवं जरूरतमंदों को चिन्हित कर लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने का काम कर रहे हैं । विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने पांच हजार का चेक विवेकाधीन कोष से भिक्षुक राजकरण को भेंट किया ।

     श्री अग्रवाल ने 3 माह पूर्व विधिवत राजकरण से आधार कार्ड और बैंक खाते की जानकारी मांगी थी।आज जब चेक बनकर तैयार हुआ तो विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल जी ने विधानसभा जाते समय उन्हें यह चेक भेंट किया ।

       इस संबंध में जब भिक्षुक राजकरण से पूछा गया तो उनके खुशी का ठिकाना नहीं था, उनका कहना था कि यह बड़े साहब जब भी इधर से गुजरते हैं तो मुझे कुछ ना कुछ धनराशि जरूर देते हैं। इस प्रकार से विधानसभा अध्यक्ष द्वारा विवेकाधीन कोष का सदुपयोग जरूरतमंदों के लिए किया जा रहा है ।