ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
साइकिल से चारधाम
August 18, 2020 • Naresh Rohila

शशांक रोहिला और पंकज बिष्ट की जोड़ी का कमाल 

 कोरोना काल में हो रही बोरियत को दूर करने की लिए अचानक दिल-दिमाग में एक ख्याल आया की कयों न समय का सदुपयोग किया जाए। इस परिपेक्ष मे शशांक रोहिला और उसके मित्र ने मिलकर एक खास यात्रा का ड्रीम एजेंडा तैयार किया। इस ड्रीम एजेंडा में उन्होंने चारधाम यात्रा को साइकिल द्वारा पूरा करने का संकल्प लिया। इस विलक्षण चारधाम यात्रा को उन्होंने साइकिल द्वारा 15 दिन में अंजाम दिया। यात्रा की शुरुआत करने से पूर्व दोनों ने उत्तराखंड शासन से यात्रा पास बनवाया ताकि कोरोना काल होने के कारण यात्रा में किसी भी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो।

 शशांक रोहिला और उसके मित्र पंकज बिष्ट ने यात्रा की शुरुआत देहरादून के गांधी पार्क से की। उन्होंने कहा कि ये हमारा गोल्डन ड्रीम है  उत्तराखंड राज्य में शायद आज तक किसी ने भी साइकिल द्वारा चारधाम यात्रा अभी तक नहीं की। शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट दोनों ही देहरादून के निवासी है। शशांक रोहिला के पिता राकेश कुमार उत्तराखंड रोडवेज में सहायक महाप्रबंधक पद पर रुद्रपुर डिपो में तैनात है।  माँ सरकारी स्कूल में अध्यापिका है। पंकज बिष्ट के पिता सेवानिवृत बैंक कर्मचारी है। माँ कुशल गृहणी है।

यात्रा पर जाने से पूर्व दोनों ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि इस साइकिल यात्रा को करने के हमारे दो उद्देश्य है । एक तो हम चाहते थे की साइकिल को यातायात के साधन के रूप में प्रयोग करें क्योंकि आज कल लोग साइकिल को व्यायाम का माध्यम समझते है, लेकिन हम चाहते है कि साइकिल यातायात के साधन के रूप में विकसित हो, ताकि सेहत और पर्यावरण दोनों ही सुरक्षित रह सके।

चारधाम साइकिल यात्रा से लौटने के उपरान्त इस यात्रा के सन्दर्भ में उन्होंने अपने खट्टे – मीठे अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि चारधाम साइकिल यात्रा हालांकि हमारे लिए चुनौती भरा था, लेकिन हमने इसे एक खेल भावना समझ कर खेल की भाँति चुनौती स्वीकार करते हुए इस खेल को खेला और विजयी भी हुए।

दोनों दोस्तों ने चार धाम यात्रा की शुरुआत देहरादून (गाँधी पार्क) से करते हुए मसूरी, कैंप्टीफाल, नैनबाग़, डामटा से होते हुए नौगांव पहुंचे। ये सफर लगभग 110 किलोमीटर था। शशांक बताते हैं उस रात नौगांव में ही हमने एक खाली प्लाट में अपना टेंट लगाकर रात्रि भोज कर विश्राम किया। पहले दिन हमें कई परेशानियां हुई जैसे की साइकिल कैरियर पर हमसे बैग ठीक प्रकार से नहीं लग रहा था। चढ़ाई बहुत अधिक थी। साइकिल चलाने में थोड़ा परेशानी हो रही थी। साथ ही हमने कविड- 19 को ध्यान में रखते हुए अपने टेंट, सीलीपिंग बेग, मैट, कपडे आदि सभी सलीके से रखे हुए थे ताकि कही भी आबादी वाले क्षेत्र में न रूककर गाँव से बाहर ही हम रुके। बैग अधिक भारी भी था। कुल मिलकर पहले दिन थोड़ी परेशानी हुई क्यूंकि सफर चुनौती भरा था, धीरे – धीरे बाद सब नार्मल होता चला गया।

दूसरे दिन नौगाँव से फूलचट्टी के लिए संकरे रास्ते से होते हुए जो यमुनोत्री धाम से लगभग ३ किलोमीटर पहले था वहाँ पर रात्रि विश्राम किया।तीसरे दिन पूलचट्टी से जानकी चट्टी पहुँच कर अपनी साइकिल वहीँ छोड़ पैदल मार्ग से यमुनोत्री मंदिर पहुंचकर, दर्शनोपरांत वापस बड़कोट पहुँच गए।

चौथे दिन उत्तरकाशी पहुंच रात्रि विश्राम किया।पांचवे दिन उत्तरकाशी से गंगोत्री धाम के लिए यात्रा की शुरुआत करते हुए, शाम तक भैरव घाटी पहुंचकर टैंट लगया जो गंगोत्री से 10 किलोमीटर पहले था।

छठे दिन भैरव घाटी से गंगोत्री धाम मंदिर पहुँच कर दर्शन करने के उपरान्त शाम तक उत्तरकाशी पहुँच कर रात्रि विश्राम किया।

सातवें दिन उत्तरकाशी से केदारनाथ धाम के लिए चौरंगी खाल, लंबगांव से होते हुए जाखन्याली में विश्राम किया।

आठवें दिन जखन्याली से फाटा की और प्रस्थान किया जो गौरी कुंड से 20 किलोमीटर पहले था फाटा में रात्रि विश्राम किया।

नौवें दिन फाटा से गौरी कुंड पहुंचकर केदारनाथ धाम के लिए 16 किलोमीटर पैदल यात्रा की। केदारनाथ मंदिर में दर्शनोपरांत वापस आकर गौरी कुंड में रात्रि विश्राम किया।

दसवे दिन गौरी कुंड से ऊखीमठ – चौपता की ओर रूख किया। ऊखीमठ से निकल कर 6 किलोमीटर आगे जाकर टैंट लगाया।ग्यारहवें दिल गरूड़ गंगा पहुंच कर रात्रि विश्राम किया, जो जोशीमठ से 22 किलोमीटर आगे है।

बारहवें दिन गरूड़ गंगा से बदरीनाथ धाम के लिए रवना हुए मगर जैसे ही हम लम्बागढ़ चैक पोस्ट पहुंचे तो वहां पर तैनात एसडीआरएफ़ (राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल ) ने हमें देरी होने के कारण सुझाव दिया कि आप लोग कल प्रातः यहाँ से बदरीनाथ धाम के लिए प्रस्थान करे न की अब। .

तेरहवें दिन लंबगढ़ से बदरीनाथ धाम 11 बजे तक पहुँच गए। वहां बदरीनाथ मंदिर में दर्शन कर उसी दिन जोशीमठ पहुँच गये।

जोशीमठ के बाद अगले दिन यात्रा करते हुए 2 दिन में देहरादून पहुँच गये। देहरादून पहुँचने पर इनके मित्रो एवं निकट सम्बन्धियों ने फूल मालाओं से उनका अभिनन्दन किया। यात्रा के अनुभव साझा करते हुए शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट ने बताया क़ि ये एक अत्यंत साहसिक एवं रोमांचक साइकिल यात्रा थी जो सदैव हमरे लिए अविस्मरणीय रहेगी।( भारत नमन की रिपोर्ट)।