ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
संगीत के मंच पर पहचान बनाने की जद्दोजहद में जुटा युवा
May 25, 2020 • Naresh Rohila • सप्तरंग

 नरेश रोहिला / कोरोना संक्रमण काल में जब अधिकांश लोग घरों में निराश बैठे हैं तब बहुतेरे लोग अपने अन्दर छिपे टैंलेट को सामने लाने की जद्दोजहद में भी लगे हैं। सहारनपुर जनपद के रामपुर मनिहारन क्षेत्र के गांव मदूनकी निवासी एक युवा एसएस रोहिला भी ऐसी ही कोशिश में जुटे हैं। बचपन से गीत-संगीत में कुछ कर गुजरने का सपना आंखों में संजोये एसएस रोहिला हालांकि यूट्यूब पर अपना एक वीडियो सांग पक्की यारी काफी पहले लांच कर चुके हैं जो बहुत लोगों ने पसंद किया लेकिन उन्हें अभी और आगे जाना हैं। शायद यही वजह है कि यह युवा गीत संगीत के हर उस मंच पर पंहुच जाना चाहता है जहां से उन्हें थोडी भी उम्मीद होती है। आजकल एसएस रोहिला ऐसी ही एक आनलाइन सिंगिंग प्रतियोगिता का हिस्सा बने हुए हैं जिसका आयोजन एक सामाजिक, सांस्कृतिक संस्था सोनिया विहार विकास मंच कर रहा है। । वे इस प्रतियोगिता के दूसरे राउंड में हैं। पहले रांउड में उन्होंने सुप्रसिद्ध प्ले बैक सिंगर स्व. मो रफी का गाया गीत ' झिलमिल सितारों का आंगन होगा ' और दूसरे राउंड में मो रफी का ही 'चल उड जा रे पंछी ' प्रस्तुत किया। उनकी इन दोनों प्रस्तुतियों को काफी सराहा गया। 

स्नातक कर चुके इस युवक का कहना है कि प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का उनका मकसद कोई पुरस्कार जीतना नही है बल्कि एक पहचान बनाना है जिससे वे और बडे मंच पर पहुंच सके। अपनी आगे की योजना बताते हुए एसएस रोहिला कहते हैं कि भविष्य में वे तीन गानों का वीडियो लाने की तैयारी कर रहे हैं।  इनमें दो गीत भारतीय सेना के उत्साहवर्धन और उनके अदम्य साहस को सलाम करने के लिखे हैं जबकि एक गीत रोहिला राजपूतों को समर्पित किया है । भारत नमन  संगीत की इस उभरती प्रतिभा को स्पोर्ट करता है। पाठकों से अनुरोध है कि यूट्यूब पर चल रही आनलाइन सिंगिंग प्रतियोगिता में उन्हें अपना भरपूर समर्थन दें।

कौन करा रहा प्रतियोगिता 

यूट्यूब पर इस आनलाइन सिंगिंग और डांसिंग प्रतियोगिता का आयोजन दिल्ली की एक सामाजिक और सांस्कृतिक संस्था सोनिया विहार विकास मंच करा रही है। प्रतियोगिता में गीत- संगीत, नृत्य में रूचि रखने वाली प्रतिभाएं और कोई भी सामान्य व्यक्ति भाग ले सकता है।प्रतियोगिता के विजेता और उपविजेता को सम्मानित किया जाएगा।

मंच के महासचिव जितेन्द्र कुमार तिवारी  ने भारत नमन को बताया है कि संस्था 14 वर्षों से सामाजिक, सांस्कृतिक आयोजन करती आ रही और विभिन्न स्तरों पर प्रतिभाओं को आगे बढाने का काम करती है। वे कहते हैं कि आनलाइन सिंगिंग, डांसिंग प्रतियोगिता का आयोजन पहली बार किया जा है। श्री तिवारी के अनुसार इस प्रतियोगिता का मुख्य  उद्देश्य तो कोरोना के कारण चल रहे लाकडाउन में लोगों को एक तरह के नकारात्मक माहौल से निकालकर उनका ध्यान कुछ क्रियेटिव करने की तरफ लगाना है। दूसरे प्रतियोगिता के माध्यम से प्रतिभागियों का मनोरंजन, उनकी कला में निखार लाना और मित्रवत प्रतिस्पर्धा की भावना को विकसित करना है। प्रतियोगिता में अलग- अलग शहरों के करीब 50 प्रतिभागी अपनी कला का प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें से ही फाइनल में विजेेता और उपविजेता का चयन किया जायेगा जिन्हें संस्था सम्मानित करेगी।