ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
शहीदों के परिजनों ने की विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल से मुलाकात
October 10, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड में भी शहीदों के परिजनों को भूखंड आवंटन की मांग

विस अध्यक्ष ने दिया आश्वासन, सहानुभूति पूर्वक किया जायेगा विचार 

एसके विरमानी / ऋषिकेश 10 अक्टूबर l बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर शहीदों के परिजनों ने आज विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चंद अग्रवाल  से भेंटकर शहीदों के परिजनों के लिए 5 बीघे भूखंड आवंटित करने को लेकर ज्ञापन सौंपा l साथ ही श्री अग्रवाल ने कहा है कि जिलाधिकारी देहरादून को विगत दिनों पत्र लिखकर अवगत कराया गया है कि स्थानीय मोटर मार्गों का या शिक्षण संस्थानों का नाम भी शहीदों के नाम से रखा जाए, जिस पर शहीदों के परिजनों ने विधानसभा अध्यक्ष जी का आभार भी व्यक्त किया l

    विगत वर्ष देश की सीमाओं की सुरक्षा के लिए ऋषिकेश के तीन सैनिक शहीद हुए थे तीनों ही शहीदों के परिजन आज विधानसभा अध्यक्ष  प्रेमचंद अग्रवाल से कैंप कार्यालय पर मिले।उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष से आग्रह किया है कि शहीदों के नाम से उनके परिजनों को भूखंड उपलब्ध कराया जाए। शहीदों के परिजनों का कहना है कि अन्य राज्यों में शहीदों के परिवारों को भूखंड उपलब्ध कराए जा रहे हैं इसी अनुसार उत्तराखंड में भी शहीदों के परिजनों को भूखंड उपलब्ध कराए जाएं।

 इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा है कि शहीदों का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता है । शहीदों की शहादत इस देश को हमेशा प्रेरणा देती रहेगी ।

 उन्होंने कहा है कि शहीदों के परिजनों के साथ उनकी पूर्ण सहानुभूति है ।श्री अग्रवाल ने कहा कि जो पत्र शहीदों को भूखंड आवंटन के लिए मुख्यमंत्री को लिखा है वह वे स्वयं मुख्यमंत्री को सौपेंगे और निश्चित रूप से शहीदों के सर्वोच्च बलिदान को दृष्टिगत रखते हुए सहानुभूति पूर्वक विचार होगा। श्री अग्रवाल ने कहा कि ऋषिकेश के मोटर मार्ग, शिक्षण संस्थान एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के नाम भी शहीदों के नाम से रखे जाएं इस हेतु उन्होंने जिलाधिकारी को पत्र लिखा है। जिस पर शहीदों के परिजनों ने स्वागत करते हुए विधानसभा अध्यक्ष का आभार व्यक्त किया ।

 इस अवसर पर शहीदों के परिजनों में रमेश गुंरुग, जयेंद्र पोखरियाल, कुंवर सिंह रावत सहित अन्य लोग उपस्थित थे।