ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
श्री बदरीनाथ - केदारनाथ मंदिर समिति की नयी वेबसाइट लांच
February 15, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

भारत नमन ब्यूरो/ देहरादून । प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने देहरादून स्थित  मुख्यमंत्री आवास सभागार में श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति की  नयी वेबसाईट https://badrinath-kedarnath.gov.in लांच की।  इस अवसर पर मंदिर समिति के आरती कैलेंडर एवं डायरी मुख्य मंत्री के करकमलों से विमोचन किया गया।

कार्यक्रम समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सूचना-प्रौद्योगिकी एवं प्रचार-प्रसार के इस दौर में वेबसाईट के माध्यम से चारोंधामों के तीर्थ यात्रियों कों त्वरित जानकारी मिल सकेगी। इसके लिए लिए उन्होंने मंदिर समिति एवं नेशनल इंफोरमेटिक सेंटर (निक) देहरादून को भी बधाई दी। 
 इस दौरान  मंदिर समिति मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह एवं निक के उपनिदेशक के नारायण ने वेबसाईट का संक्षिप्त परिचय रखा। मुख्य मंत्री ने चारधाम यात्रा हेतु इंट्रीगेटेड कंट्रोल रूम बनाने के भी निर्देश दिए।इससे पूर्व मंदिर समिति अध्यक्ष  मोहन प्रसाद थपलियाल, उपाध्यक्ष अशोक खत्री एवं सदस्यों  ने मुख्यमंत्री का पुष्प गुच्छ भेंटकर स्वागत किया, शाल ओढ़ाकर भगवान बद्रीविशाल एवं श्री केदारनाथ जी का प्रसाद भेंट किया।  
मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, उपाध्यक्ष अशोक खत्री एवं मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने बताया कि वेबसाईट में देश-विदेश के तीर्थयात्रियों हेतु श्री बदरीनाथ-केदारनाथ धाम, श्री बदरीनाथ एवं केदारनाथ के अधीनस्थ मंदिरों, पंच बदरी-पंच केदार,  पंच-प्रयाग सहित  श्री गंगोत्री एवं श्री यमुनोत्री धाम के बावत जानकारी उपलब्ध है।
उत्तराखंड के चार धामों की ऋषिकेश से दूरी का रोड मेप भी उपलब्ध कराया गया है। श्री बदरीनाथ एवं श्री केदारनाथ   से संबंधित सभी जानकारियां  आन लाईन प्राप्त की जा सकती है।    आन लाईन पूजायें  बुक करवा सकते है तथा  श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति को आनलाईन डोनेशन भी  भेज सकते है,  वेबसाईट में विभिन्न मंदिरों की पूजाओं के  विवरण के   अलावा मंदिर समिति की धर्मशालाओं/ विश्राम गृहों एवं कार्यालयों, संस्कृत स्कूलों, फार्मेसी आदि का विवरण उपलब्ध है । समिति की उपलब्धियों कार्यों की जानकारी उपलब्ध है। 
 नयी वेबसाईट से  श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति को  आन लाईन पूजा एवं डोनेशन सीधे प्राप्त हो सकेगा।
  प्रदेश के पर्यटन-तीर्थाटन मंत्री सतपाल महाराज ने  कहा है कि मंदिर समिति की वेबसाईट से तीर्थ यात्रियों को बेहतर  जानकारी एवं सुविधाएं मिलेगी।
 एनआईसी  ने मंदिर समिति को ट्रायल बेस पर वी.सेट सुविधा भी प्रदान की है ताकि वेबसाईट संचालन हेतु  उचित इंटरनेट स्पीड मिल सके। डोनेशन देनेवाले दानीदाताओं को मंदिर समिति द्वारा कर मुक्ति प्रमाणपत्र 80 - जी दिया जा रहा है। पूजा काउंटर हेतु साफ्टवेयर तैयार हो चुका है। जोकि सफलता पूर्वक कार्य कर रहा है। इस अवसर पर मंदिर समिति सदस्य अरुण मैठाणी, चंद्रकला ध्यानी,  ऋषि प्रसाद सती,राकेश ओबराय, राजपाल पुंडीर, इंद्रमणि गैरोला एवं मुख्य मंत्री के विशेष कार्याधिकारी जगदीश खुल्बे, विशेष कार्याधिकारी केके मदान, देवेन्द्र रावत  निक उपनिदेशक के नारायण, डा.जेजे बिष्ट,अरूण शर्मा,रचना शाह,मंदिर समिति अधिशासी अभियंता अनिल ध्यानी, वैयक्तिक सहायक प्रमोद नौटियाल, मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़, पोर्टल प्रभारी संजय चमोली, विनोद नौटियाल, कुलदीप नेगी   आदि भी वेबसाईट लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल हुए। कार्यक्रम के समापन पर निक के सभी सदस्यों सहित मंदिर समिति मुख्य कार्याधिकारी बी.डी. सिंह एवं पोर्टल प्रभारी संजय चमोली को मुख्यमंत्री ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। वर्ष 2004 में श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति की वेबसाइट बनायी गयी थी। वर्तमान में समिति ने नये रूप में निक के सहयोग से वेबसाईट का निर्माण किया है।

श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने इस दौरान एक वर्ष के उनके कार्यकाल में मंदिर समिति के कार्यों एवं उपलब्धियों की रूपरेखा मुख्यमंत्री के सम्मुख प्रस्तुत की। जिसमें यात्रा वर्ष 2019 का सफल संचालन सहित पंच बदरी में शुमार भविष्य बद्री  मंदिर सुभाई तपोवन का पुनर्निर्माण कार्य , श्री तुंगनाथ मंदिर, कोठा भवन उखीमठ पुनर्निर्माण कार्य आरंभ, कुबेर मंदिर,बैरासकुंड मंदिरों  के जीर्णोंद्धार कार्य हेतु आर्थिक सहायता सहित केदारनाथ धाम में रावल एवं पुजारी निवास, मठ भंडार एवं तोशाखाना, प्रतीक्षालय,पूजा काउंटर, डिस्पेंसरी निर्माण ,सेंदुल (घनशाली) में विश्राम गृह का निर्माण,उर्गम स्थित यात्री विश्राम गृह निर्माण,संस्कृत महाविद्यालयों मंडल, विद्यापीठ, एवं वेदवेदांग जोशीमठ  में पुस्तकालय की स्थापना, मंदिर समिति के सभी विश्राम गृहों का जीर्णोद्धार,बदरीश चंदन वाटिका हेतु उद्योगपति मुकेश अंबानी के सहयोग से भूमि चयन एवं गरीब-असहाय लोगों एवं मार्ग अवरूद्ध होने पर निशुल्क आवास सुविधा मुहैया करायी है।