ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
स्कूटियों की डिग्गी तोडकर एटीएम व अन्य सामान चुराने वाले गिरोह का खुलासा
February 17, 2020 • Naresh Rohila • क्राइम

 कई मोबाइल फोन, नगदी व कार सहित तीन सदस्य पुलिस गिरफ्त में

एसके विरमानी /देहरादून | दून पुलिस ने वाहनों की डिग्गी के लाक तोडकर एटीएम और अन्य सामान चोरी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर कई मोबाइल फोन, हजारों की नगदी और एक कार बरामद की है |

मिली जानकारी के अनुसार थाना डालनवाला पर सूचना प्राप्त हुई कि डीएवी पीजी कॉलेज में परीक्षा के दौरान अज्ञात अभि0गण द्वारा 7  वाहनों ( स्कूटी ) की डिग्गी का लॉक   तोड़कर उसमें से एटीएम कार्ड,  मोबाईल व सिम कार्ड एवं नगदी  चोरी कर ली गयी है,  जिसके पश्चात्  सूचना मिलने पर वादी मुकदमा अभय कुमार पुत्र राजेन्द्र प्रसाद नि0 आर0के0पुरम अधोईवाला थाना रायपुर जनपद देहरादून की लिखित तहरीर के आधार थाना हाजा पर मु0अ0स0 22/2020 धारा 379 भादवि  का अभियोग पंजीकृत किया गया है।  घटना की गम्भीरता को देखते हुये तत्काल पुलिस उप महानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक नगर व क्षेत्राधिकारी डालनवाला के नेतृत्तव में थाना डालनवाला से एक टीम गठित की गयी।   टीम द्वारा दौराने विवेचना घटनास्थल के सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो तीन संदिग्ध व्यक्ति पार्किंग में स्कूटियों की डिग्गी से छेड़खानी करते हुये नजर आये। इस क्रम में आगे बढ़ते हुये सीसीटीवी फुटेज को चैक किया गया तो वही तीन लड़के डीएवी पीजी कॉलेज से पहले आते दिखाई दिये, इसी दौरान यह सूचना मिली कि उक्त चोरी गये ATM  का इस्तेमाल करके ओरिएन्टेल बैंक ऑफ कॉमर्स के रेसकोर्स स्थित ATM से 25,000/-रुपये निकाले गये हैं।  सूचना पर तत्काल एक टीम ओरिएन्टेल बैंक ऑफ कॉमर्स,  रेसकोर्स भेजी गयी, जहां पर सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो उक्त तीनों व्यक्तियों द्वारा होण्डा जैज कार दूर खडी कर के उक्त एटीएम पर पैदल पहुंचकर चोरी किये गये ATM से पैसे निकाले गये । इसी क्रम में आगे बढ़ते हुये सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो डीएवी कट के पास उक्त होण्डा जैज गाडी की पहचान वाहन सं0 UP14BJ-8089 के रूप मे हुयी। अन्य टीम, जो SOG के सम्पर्क में थी, उसके द्वारा चोरी किये गये सिम की लोकेशन क्लेमनटाउन क्षेत्र मे होना पाया गया। इस पर पुलिस कन्ट्रोल रूप से आशारोडी बैरियर के कैमरे उक्त अवधि में चैक करवाये गये तो उक्त न0 की सन्दिग्ध कार वहा से निकलती दिखी, जिससे उक्त कार का न0 तस्दीक हुआ, उक्त मार्ग के अन्य सीसीटीवी फुटेजो को चैक करने पर उक्त अभियुक्तो के रुकने के स्थान की जानकारी की गयी तो  उक्त तीनो व्यक्ति  द्वारा घटना से पूर्व रात्रि में होटल सगुन ई0सी0 रोड़ कोतवाली डालनवाला में ठहरने की जानकारी हुयी, उक्त होटल  के अभिलेखो की जाँच करने पर  उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा होटल के अभिलेखो में अपना फोन न0 फर्जी लिखवाना प्रकाश में आया। चूँकि उक्त होटल तीनों व्यक्तियों द्वारा ऑनलाइन बुक किया गया था, जहां से इनका ऑरिजनल न0 प्राप्त हुआ,  जिसके सीडीआर के अवलोकन करने पर पता लगा कि उक्त तीनों व्यक्ति गाजियाबाद के रहने वालें है। इसी क्रम में एक टीम को गाजियाबाद रवाना किया गया। जहां पर टीम द्वारा रोहाना टोल टैक्स बैरियर पर लगे कैमरों के अवलोकन किया गया व लगातार कैमरों का अवलोकन करते हुये उक्त गाड़ी का पीछा किया गया तो उक्त गाड़ी हसनपुर थाना कौशाम्बी जनपद गाजियाबाद में दिखायी दी। जहां पर जानकारी करने पर पता चला कि उक्त गाड़ी प्रिंस नाम के व्यक्ति की है जो अपने दोस्त जितेन्द्र व धर्मेन्द्र के साथ मिलकर के ATM की क्लोनिंग करके लोगों के धोखाधड़ी करते हैं, इनके द्वारा पूर्व में भी कई घटनायें की गयी है। टीम द्वारा गाजियाबाद में पतारसी सुरागरसी कर अभियुक्तगणो के नाम पते तस्दीक किये गये। इस दौरान पुलिस टीम को जानकारी प्राप्त हुयी की उक्त तीनों व्यक्ति देहरादून में आयोजित किसी परीक्षा में चोरी/धोखाधड़ी करने की नीयत देहरादून गये हैं, गठित टीम के द्वारा प्राप्त सूचना के आधार पर गहनता से तलाश करते हुये उक्त तीनों व्यक्तियों को उसी होण्डा जैज गाड़ी  में ई0सी0 रोड़ पर आनन्द भवन वाली गली से पकड़ लिया। पूछताछ करने पर अभियुक्तो द्वारा बताया कि हमारे द्वारा 10.02.2020 को डी0ए0वी0 पी0जी0 कॉलेज देहरादून में बी0एड0 की परीक्षा के दिन पार्किंग में खड़ी 6-7 स्कूटियों की डिग्गी खोलकर उनसे ATM/सिम/मोबाइल फोन/ पैसे चोरी कर लिये थे तथा चोरी किये ATM से रेसकोर्स  से 25,000/-रुपये निकाले गये थे। चोरी में मिले पर्स, मोबाइल व सिम को हमारे द्वारा तोड़फोड़ कर नदी में फेंक दिया गया था,  इससे पूर्व हमारे द्वारा जनवरी व फरवरी माह में गंगनहर हरिद्वार में भी ऐसी वारदातें की गयी थी, जिसमें हमें दोनों घटनाओं से 40-40 हजार रुपये मिले थे। पूर्व में हमारे द्वारा दिल्ली कश्मीरी गेट में भी घटना की गयी थी, जहां हम पकड़े गये थे और हमारे द्वारा बिहार में भी इसी तरह की घटनायें की गयी हैं । हम लोग पेपर में अलग-अलग राज्यों में परीक्षा की तिथि का पता करते हैं, फिर घटना को अंजाम देते हैं। घटना के सम्बन्ध में अभियुक्तो के बैंक एकाउण्ट की जानकारी की जा रही है।

 पकडे गये अभियुक्त
1-  प्रिंस कुमार पुत्र विशेश्वर सिंह नि0 म0न0 805 नीलगिरी अपार्टमेन्ट गाजियाबाद उ0प्र0 उम्र 23 वर्ष 
2-  धर्मेन्द्र पुत्र हरी सिंह नि0 म0न0 346 भोवापुर हसनपुर थाना कौशाम्बी गाजियाबाद उ0प्र0 उम्र 26 वर्ष 
3-  जितेन्द्र पुत्र हरि सिंह नि0 241 भोवापुर हसनपुर थाना कौशाम्बी गाजियाबाद उम्र 24 वर्ष

 बरामदगी

1- 03 मोबाइल फोन जिसमें घटना से सम्बन्धित OTP मौजूद है
2-   9,860/- रूपये
3-  अन्य तीन फोन
4-   घटना मे प्रयुक्त होण्डा जैज कार न0 UP14BJ-8089 
 
परीक्षार्थी बनकर चुराते एटीएम 

 उक्त तीनों अभियुक्त गण द्वारा न्यूज पेपर में परीक्षा की तिथि  व स्थान का पता किया जाता है व रेकी करने के उपरान्त परीक्षार्थी बनकर छात्रों के स्कूटी वाहनों की डिग्गियों में से पैसे/ATM/मोबाइल फोन व सिम चोरी करके उनके सिम व ATM की मदद से अन्य फोन पर OTP मंगा कर  तत्तपश्चात  ATM का पिन बदलकर धोखाधड़ी कर पैसे निकाले जाते हैं।  घटना के उपरान्त शातिराना तरीके से सिम व मोबाइल को तोड़कर फेंक दिया जाता है। 

 आपराधिक इतिहास

उक्त गैंग अंतर्राज्यीय स्तर का गिरोह है, जिनके द्वारा पूर्व में कश्मीरी गेट दिल्ली, बिहार, व उत्तराखण्ड में जनपद हरिद्वार में थाना गंगनहर क्षेत्र व अन्य राज्यों पंजाब आदि में इसी तरह की वारदातों/घटनाओं को अंजाम दिया गया है। 
 
 पुलिस टीम 

1-   श्री मनी भूषण श्रीवास्तव, प्रभारी निरीक्षक डालनवाला
2-  SSI श्री पंकज देवरानी 
3-  SI  दीपक सिंह रावत  
4-  SI  प्रमोद कुमार 
5-  SI ओमवीर सिंह 
6-  का0  सोहन बड़ोनी 
7-  का0   सुदेश कुमार 
8-  का0  सौरभ वालिया 
9-  का0   बृजमोहन सिंह
10-  का0   धनवीर सिंह
11-  प्रमोद कुमार SOG देहरादून