ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
उत्तराखंड में पत्रकारिता पर अघोषित सेंसरशिप के विरोध में राष्ट्रपति और राज्यपाल को ज्ञापन
August 5, 2020 • Naresh Rohila

पत्रकारों ने काले फीते बांधकर पुलिस ज्यादतियों पर रोष जताया 

देहरादून। उत्तराखंड पत्रकार संयुक्त संघर्ष समिति के नेतृत्व में  राजधानी देहरादून के पत्रकार और मीडिया कर्मी पुलिस की ज्यादतियों के विरोध में लामबंद हो गये हैं। इसी क्रम में पत्रकारों व मीडिया कर्मिंयों पर पुलिस के द्वारा की जा रही उत्पीड़न, दमन की कार्यवाही एवं झूठे मुकदमें दर्ज कराकर उन्हें अकारण जेल भेजने की अपमानजनक कार्यवाही एवं तीन - तीन वर्ष पुराने प्रकरणों पर निजी दुर्भावना से ग्रसित होकर अमानवीय एवं असंवैधानिक तरीकों से की गयी कार्यवाही के विरोध में पत्रकारों ने गत दिवस काले फीते लगा कर विरोध जताया और प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती बेबीरानी मौर्य को राजभवन जाकर ज्ञापन सौंपा। इसके साथ  ही एक ज्ञापन राष्ट्रपति को भी प्रेषित करवाया।

ज्ञापन में प्रदेश सरकार द्वारा अघोषित सेंसरशिप लगाकर पत्रकारों पर की जा रही दमनात्मक व उत्पीड़न की कार्यवाही और झूठे मुकदमें दर्ज कराकर जिस तरह खुद पुलिस द्वारा किये जा रहे असंवैधानिक व अमानवीय कृत्य के भी विरोध में दखल देने और पत्रकारों को शातिर अपराधियों की तरह लाकॅअप में बंद करने और अवैध रुप से यातनाओं के साथ पिटाई किये जाने का मामला भी उठाया गया।ज्ञापन में हाल ही में कोटद्वार व हरिद्वार सहित अन्य पत्रकारों के साथ की गयी पुलिसिया कार्यवाही के मामलों को भी सम्मिलित किया गया।

ज्ञापन देने से पूर्व  काफी संख्या में पत्रकार व मीडिया कर्मी डूँगा हाऊस के पास सोशल डिस्टेंसिंग के अनुपालन के साथ इकठ्ठा हुये और अपनी - अपनी बाजू में काला रिबन बाँधकर सांकेतिक रूप से अपना रोष भी जाहिर किया तथा यह निर्णय लिया कि पत्रकार तब तक काला रिबन नहीं हटायेंगे जब तक कि सरकार इस अघोषित सेंसरशिप को नहीं हटाती तथा पत्रकार राजेश शर्मा से राजद्रोह जैसे आपत्तिजनक मामले और फर्जी मुकदमे  नहीं लिये जाते।

ज्ञापन देने जा रहे पत्रकारों को हाथीबड़कला पुलिस चौकी के पास पुलिस ने बैरिकेड्स लगाकर रोक लिया जबकि पत्रकार अनुशासनबद्ध रहकर अपने अपने वाहनों से राजभवन के संज्ञान के साथ ज्ञापन देने पूर्व निर्धारित समय के अनुसार जा रहे थे। 

ज्ञापन देने वालों में पत्रकारों में डा. वी डी शर्मा, संयोजक उत्तराखंड पत्रकार संयुक्त संघर्ष समिति, आलोक शर्मा, प्रदेश महामंत्री वेब मीडिया एसोसिएशन , वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन आफ इण्डिया के प्रदेश महामंत्री सुनील गुप्ता, संगठन मंत्री रजनीश ध्यानी, देवभूमि पत्रकार यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष विजय जायसवाल, दीपक गुलानी, अनिल वर्मा, डा.गुल वहार अहमद, पर्वतजन से राजेश बहुगुणा एवं वीडियो जर्नलिस्ट पुण्डीर एवं पत्रकार असद खान, अशरफ अन्सारी, बाबी गुप्ता, गौरव तिवाडी, अर्पित गुप्ता, वीर सिंह चौहान, अखिलेश व्यास, सूर्य प्रकाश शर्मा, नवीन वरमोला, संजीव पंत, तिलक राज, मीनाक्षी, वरुण राठी, अहमद, दीपक छावडा, विजय रावत, सोमपाल सिंह, राजकुमार छाबडा एवं श्रमजीवी पत्रकार यूनियन से विश्वजीत सिंह नेगी, गायत्री जी, बावी शर्मा, गोपाल सिंघल, ज्योत्सना सहित अनेकों संगठनों से जुडे़ पत्रकार सम्मिलित हुये।