ALL करंट अफेयर्स राजनीति क्राइम खेल धर्म-संस्कृति हेल्थ खरीदारी-सिफारिश बातचीत सप्तरंग
विधानसभा परिसर में रामधुन का गायन
October 2, 2020 • Naresh Rohila • करंट अफेयर्स

विस अध्यक्ष ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व पीएम शास्त्री जी को श्रद्धासुमन अर्पित किये 

bharatnaman.page /देहरादून 2 अक्टूबर।उत्तराखंड विधानसभा परिसर, देहरादून में आज गांधी जयंती धूमधाम से मनाई गई।इस अवसर पर उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष  प्रेमचंद अग्रवाल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए।इस दौरान विधानसभा कर्मियों द्वारा राम धुन भी गाई गई।

इस अवसर पर उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि महात्मा गांधी जी और शास्त्री जी दोनों भारत माता के अनमोल रत्न थे।उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर देशवासियों को संगठित करते हुए स्वतंत्रता आंदोलन को अपना ऐतिहासिक नेतृत्व दिया।

 विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री को याद करते हुए कहा कि महात्मा गांधी की तरह शास्त्री जी का जीवन भी सच्चाई और सादगी का जीवन रहा, उन्होंने देश वासियों में उत्साह और राष्ट्रभक्ति का संचार करने के लिए जय जवान जय किसान का प्रेरणादायक नारा दिया और इसके जरिए उन्होंने हमारे मेहनतकश किसानों और वीर जवानों का हौसला बढ़ाया। विधानसभा अध्यक्ष ने सभी से महान विभूतियों के जीवन दर्शन के अनुरूप अपने अपने कार्य क्षेत्र में देश की सेवा के लिए तत्पर रहने का आह्वान किया।

इस अवसर पर विधानसभा के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल, उपसचिव चंद्र मोहन गोस्वामी, अनुसचिव मनोज कुमार, अनु सचिव नरेंद्र रावत, हेम गुरानी, राकेश रमोला, हिमांशु त्रिपाठी, पुष्कर रौतेला, प्रवीण जोशी, शिवम छाबड़ा सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी गण मौजूद थे।

राज्य आन्दोलन के शहीदों को श्रद्धांजलि 

दूसरी ओर देहरादून कचहरी परिसर स्थित राज्य आंदोलनकारी शहीद स्मारक पर पहुंचकर विधानसभा अध्यक्ष  प्रेमचंद अग्रवाल ने शहीदों के चित्र पर पुष्प चक्र अर्पित कर उत्तराखंड राज्य आंदोलन मे हुए शहीदों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की l

    इस अवसर पर इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि 2 अक्टूबर के दिन रामपुर तिराहे पर जो बर्बरता पूर्वक अत्याचार उत्तराखंड की मातृशक्ति पर हुआ है वह भुलाया नहीं जा सकता । उन्होंने कहा है कि मैं स्वयं राज्य आंदोलनकारी रहा हूं और उस घटना मे जिस प्रकार से निर्दोष और शांतिपूर्वक आंदोलन कर रहे लोगों पर बर्बरता हुई है वह अत्यंत दुखदाई घटना थी

    श्री अग्रवाल ने कहा है कि उत्तराखंड राज्य के लिए अनेक लोगों ने अपनी शहादत दी और अनेक लोगों ने संघर्ष किया ।आज आवश्यकता इस बात की है उत्तराखंड राज्य को हर दृष्टि से सशक्त व समृद्ध बनाना होगा ताकि जो सपने आंदोलनकारियों ने देखे थे उसे हम पूरा कर सकें।श्री अग्रवाल ने कहा है कि प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है कि हम अपनी पूर्ण निष्ठा व समर्पण भाव से इस राज्य को प्रगति के पथ पर और आगे बढ़ाएं ।